सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Friday, January 25, 2013

शोभना ब्लॉग रत्न सम्मान प्रविष्टि संख्या - 2

राज की बात

राम राज की आशा में, बैठे हैं जो नादान हैं वो,
हालात वतन के वो न जानें, अज्ञानी है, अंजान है वो ।

मुखिया को अपने दल के जो अब राम बताया करते हैं,
उस दल का चमचा अपने को, कहता है कि हनुमान है वो । 

क्या उलझन वो सुलझाएंगे इस देश में रहने वालों की,
गैरों से नहीं जो लगता है, खुद अपने से परेशान हैं वो ।

वो मालिक भी बन सकते हैं इतिहास बताता है हमको,
जो कहते थे कुछ दिन के लिए इस देश के मेहमान हैं वो । 

बिन बारिश के जब खेतों में अंकुरित बीज नहीं होते,
वो मरुभूमि के खेत नहीं, लगता है के शमशान हैं वो ।

रचनाकार- श्री वीरेश अरोड़ा "वीर"


निवास- अजमेर, राजस्थान (भारत)