सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Monday, July 23, 2012

पर्यावरण पर सुमित के तड़के


   
उगा रहे  हैं  शहर में, सीमेंट  के  पेड़
पर्यावरण से होती, नित्य  नई  मुठभेड़
    घर – घर में फ्रिज हो गए, घड़े रह गए चंद
     छेद ओजोन  परत का, कभी  न  होगा बंद 
    ट्रैफिक  की  चिल्ल – पों, मचा रही है कहर
   होगा कुछ दिन बाद ही, बहरों का यह शहर
   तप - तप कर धरती बनी, एक खौलती देग
   प्रीतम  वृक्ष   दिखें  नहीं, बरसें  कैसे मेघ
   एसी की  ठंडक  नहीं, मिले  नीम की छाँव
    मनवा बोले चल  सुमित, चलते हैं अब गाँव