सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Tuesday, September 10, 2013

प्यारी धरती माँ !!!

सींच कर अपने रक्त से
गढ़ती है नित नए कलेवर
असंख्य रत्नों का भंडार,
है सोने सा तन इसका ,
हरा भरा आंचल ,
सुंदर सलिल सरितायेँ ,
मोहक रूप मनोहर
ये धरती है निर्माता ।
गोदी मे खेले इसकी
बालक हो या बालिका
न करती कभी कोई भेद ,
ये धरती है निर्माता ।
कितनों ने ही नोचा इसको
सुंदरता को छीना है
बच्चों को भी मारा है
उफ ! भी न किया कभी
बस सबको ही पाला है
ये धरती है निर्माता ।
 जो रूठ गई
तो क्या करोगे
देख न सकोगे
 विध्वंस इसका
झेल न सकोगे
नूतन दंड इसका
मत भूलो !!!
ये ही माता है
ये ही निर्माता है ॥