सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Monday, November 11, 2013

ख़लिश

दरवाज़ों पर होती हैं दस्तकें बहुत
पर दिल मे वो ताबीर नहीं होती,
लरज़ते हैं लब चूड़ियों की खनक के साथ
पर बज़्मे-याराँ मे वो ख़लिश नहीं होती |

रोज़ने-दीवार से आती है शुआए-मेहर
पर उनके आने की ख़बर नहीं होती,
चांदनी रात आ-आ के गुजरती है रोज़
पर साए से उनके आँखें चार नहीं होती |

खिले हैं कँवलइधर-उधर , यहाँ-वहाँ
पर लुत्फे-निगाहें-नाज़ नहीं होती
आते हैं भँवरें गुलों की बज़्मे-जहाँ मे
पर उनके रुखसारों सी आग नहीं होती |  

रविश 'रवि'
फरीदाबाद