सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Thursday, February 20, 2014

शिरोमणि कहलाने वाले !!

Poverty

कुछ त्रिपदियाँ ... 

शिरोमणि कहलाने वाले !! 
क्या पीड़ा हर लोगे तुम ...
क्या व्यथाओं को समझ सकोगे तुम ?

इन चिथड़ों मे जीवन है 
चिथड़ों की हो रही चिन्दियाँ 
क्या ये चिन्दियाँ समेट सकोगे तुम ?

भग्न हो चुका मन प्राण है 
खो रही आशाओं की रशमियां
क्या रश्मियां प्रेषित कर सकोगे तुम ?

पी रहे हम हलाहल हैं 
फिर क्यों कोलाहल है 
क्या जीवन अमृत दे सकोगे तुम ? 

शिरोमणि कहलाने वाले !! 
क्या पीड़ा हर लोगे तुम ... 
क्या मधुबन की खुशबू दिला सकोगे ?

अन्नपूर्णा बाजपेई