सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Friday, November 9, 2012

कविता: हँसके जिएँ मुस्कुरा के मरें



चित्र शोभना वेलफेयर सोसाइटी से साभार 
जीवन में दुःख हैं बहुत
क्यों न ऐसा करें
हँस-हँस के जिएँ
 मुस्कुरा के मरें

मौत आनी है वो तो आएगी
किससे भला रुक पाएगी
वो आती है तो उसे आने भी दो
अपना जलवा उसे दिखलाने भी दो
उसके आने के डर से हम क्यों डरें
हँस-हँस...

जीवन है कुछ पल का
आओ जी लें खुशी से
हो जायें दीवाने सब
अपनी इस हँसी के
रोनी सूरत को अलविदा हम कहें
हँस-हँस...
कोई कहीं रोते धोते मिलें
नैनों को अपने भिगोते मिलें
उनसे हँस के मिलें
उनसे मिलके खिलें
हमारे होते वो क्यों आहें भरें
हँस-हँस...

जो भूखा हो उसे खाना मिले
हर जीव को उसका दाना मिले
न बेघर भटके कोई धरा पर
सबको ही अब आशियाना मिले
हम मिलके थोड़ी कोशिश तो करें
हँस-हँस...

हमको जाना है ये तो पक्का है
न रुकना ये जीवन का चक्का है
जाने की बात सुन ए नासमझ
क्यों हुआ तू हक्का-बक्का है
मरने से पहले भला हम क्यों मरें
हँस-हँस...

जाएँ जब भी ये जग छोड़कर
अपनों से एक दिन यूँ मुँह मोड़कर
जीते जी हमको जितना भी मिला
उससे ज्यादा कर जाएँ औरों का भला

फिर मरके भी हम जग से न मरें

हँस-हँस...



लेखक- सुमित प्रताप सिंह