सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Thursday, May 7, 2015

अँधियारी रातों में

अँधियारी रातों में ये मन 
दूर देश तक हो आता है 
कभी ढ़ूढ़ लेता अवसादें 
अपने अन्त: मे अनजानी 
कभी मोर पंखों पर चढ़कर
नील गगन में फिरे अमानी
मान-अमान भरे पलछिन के
अपने पन मे खो जाता है 

कभी दौड़ना चाहे खुलकर
लेकिन पग सोए रहते हैं 
आस- निराश भरे लम्हों में 
अनदेखे साए पलते हैं 
परछाई के मोहपाश मे
हँसता-हँसता रो जाता है 

कभी शाह अपनी मर्जी का
नूतन अपनें रूप दिखाए 
दीन-हीन बन कभी उतरकर
आसमान से नीचे आए 
धूप - छाँव के गलियारे में
मस्त कलंदर सो जाता है 

पाप-पुण्य की जड़ता छाई
अवचेतन के मृदु भावों में
नाव नदी की लहर ले चली
चेतनता के सद्भावों में 
भाव-कुभावों की झंझा में
बीज कर्म के बो जाता है 


रचनाकार- डॉ. जय शंकर शुक्ला 
संपर्क- बैंक कालोनी, दिल्ली