सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Monday, February 16, 2015

इटावा में हुआ नो कमेंट का विमोचन एवं सम्मान समारोह


इटावा : शनि‍वार को नारायण कॉलेज ऑफ़ साइंस एण्ड आर्ट्स के टैगोर सभागार में दिल्ली एवं इटावा गान के रचयिता सुमित प्रताप सिंह की तीसरी पुस्तक ‘‘नो कमेंट‘‘ पुस्तक का विमोचन किया गया। साथ ही चार प्रबुद्ध जनों का शोभना वेलफेयर सोसायटी की ओर से सम्मान भी किया गया। समारोह में मुख्य अतिथि सरिता भदौरिया ने कहा कि सम्मान उसी को मिलता है जिसमें प्रतिभाएं होती हैं। उन्होंने प्रतिभाओं के सम्मान पर स्वामी विवेकानंद का एक संस्मरण भी सुनाया। उन्होंने कहा कि शेर का कोई राजतिलक करने नहीं जाता फिर भी वह जंगल का राजा होता है। व्यक्ति अपने व्यकित्त्व एवं संस्कारों से जाना जाता है। विशिष्ट अतिथि सी.एम.ओ. उदयवीर सिंह ने कहा कि जीवन में तपस्या की है तो जीवन जीने का आनन्द मिलता है। आज साहित्य के साथ स्वास्थ्य के बारे में भी जागरूकता जरूरी है। सेवन हिल्स स्कूल के प्रधानाचार्य कैलाश चन्द्र यादव ने कहा कि अधिकांशतः देखा जाता है कि पुलिसवालों की भाषा में बदलाव आ जाता है, लेकिन सुमित द्वारा पुलिस सेवा में रहते हुए भी व्यंग्य से जुड़ाव और पुस्तक को लिखना बड़े सौभाग्य की बात है। प्रो. शैलेन्द्र शर्मा ने कहा कि सत्य को कहना हो तो कहा नहीं जा सकता। सत्य कड़वा होता है और उसे कहने के बाद आदमी ‘‘नो कमेंट‘‘ की स्थिति में हो जाता है। उन्होंने कहा कि ‘‘न पूछो नाम हमें बेनाम रहने दो, न कुरेदो खाक अंगार दबे रहने दो, मकान की छत से तमाशा देखनेवालो, हम ईंट ही नींव हैं हमें छुपा रहने दो‘‘। कार्यक्रम अध्यक्षता कर रहे श्रीकालीबाड़ी मंदि‍र के महंत स्वामी शिवानंद महाराज ने कहा कि नो कमेंट के लेखक सुमित प्रताप सिंह को अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज में जागरूकता लाने व समाज को नई दिशा देने का काम करना चाहिए। सुमित अभी युवा हैं और उन्हें काफी कार्य करना है। ‘नो कमेंट‘‘ पुस्तक के लेखक सुमित प्रताप ने अपनी कृति पर प्रकाश डालते हुये कहा कि इस पुस्तक में उनके व्यंग्य समाज में फैली हुईं विद्रूपता, कुरीतियाँ एवं भ्रष्टाचार पर प्रहार करते हैं और एक बेहतर समाज की स्थापना करने का स्वप्न देखते हैं। उन्होंने बताया यह उनकी तीसरी पुस्तक है। इससे पूर्व वो ‘पुलिस की ट्रेनिंग मुसीबतों की रेनिंग’ नामक कविता संग्रह एवं ‘व्यंग्स्ते’ नामक व्यंग्य संग्रह भी लिख चुके हैं और उनके पहले व्यंग्य संग्रह का कुछ विद्वानों द्वारा कई भाषाओँ में अनुवाद भी किया जा रहा है। इस दौरान शोभना वेलफेयर सोसाइटी द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले कर्मचारी नेता इ. हरिकिशोर तिवारी, केके डिग्री कॉलेज के प्रो. शैलेन्द्र शर्मा एवं सेवन हिल्स के प्रधानाचार्य कैलाश चन्द्र यादव तथा समाज सेवा के क्षेत्र में निधि दीक्षित को अंगवस्त्र ओढ़ाकर एवं प्रतीक चिन्ह व प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ पत्रकार संजय सक्सेना ने किया तथा आभार इटावा लाइव के संपादक गुलशन कुमार ने व्यक्त किया। इस दौरान आशीष वाजपेयी, विवेक रंजन गुप्ता, सोहम प्रकाश, नितिन जैन, प्रि‍या श्रीवास्‍तव, निर्मल सिंह, रामजन्म सिंह, अवनीन्द्र जादौन, दिलीप मिश्रा, अशोक द्विवेदी, अजय कुमार, अमन कुमार, संजीव शर्मा, श्रवण कुमार बाथम, जगमोहन सिंह एवं डॉ. राजेन्द्र सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।
रिपोर्ट : नितिन जैन, इटावा