सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Monday, May 12, 2014

मुट्ठी भर शाम

मुट्ठी भर शाम
अक्सर तुम्हारे जिस्म से
लिपट कर  
सुर्ख लाल हो जाती है-
और रात
ठहर जाती है  
तुम्हारी ठंडी
पलकों पर,
और मै
चुपके से...
पिघलती हुई शाम को
ओढ़ कर
रात के आँगन में
बसर कर लेता हूँ.
रविश 'रवि'
फरीदाबाद