सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Tuesday, March 11, 2014

नीला शहर

बहुत अजीब है 
ये शहर..
रखते हैं यहाँ सब
एक चेहरे में कई चेहरे

बिछती  है बिसात यहाँ
सड़कों पर....
मरते-कटते हैं
रोज़ मोहरें....

जरुरत होती है
इन्सां को
दो गज ज़मीन की
फिर भी करते हैं
तेरा-मेरा....... 

दीखते हैं जितने सफेदपोश
दाग हैं
उतने ही गहरे.....

पी-पी के दंगों का जहर
पड़ गया है नीला

ये शहर......

रविश 'रवि'
फरीदाबाद