सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Monday, September 16, 2013

जिंदगी तन्हा है

आसमां पसरा है खामोश
चाँद भी  चमका है तन्हा,
यूँ तो मिले हैं दिल कई
फिर भी दिल है तन्हा,

शाम होती है तेरी बज़्म में
सहर फिर भी है तन्हा,
हैं यहाँ दरो- दीवारें बहुत
फिर भी हर मकां हैं तन्हा,

सितारों की रोशनी है बहुत
रहगुजर फिर भी है तन्हा,
दिन तो गुजर ही जाता है
रात सरकती है तन्हा,

तै किया है सफ़र बहुत
मंजिलें फिर भी मिलीं हैं तन्हा,
बहुत बेगैरत है ये ज़िन्दगी
रूह भी तन्हाजाँ भी तन्हा |
रविश ‘रवि’
फरीदाबाद