सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Monday, August 26, 2013

हमसाया

सफ़ेद बर्फ से घिरे पहाड़
मानो समेट लिया हो
बर्फ ने पहाड़ों को
अपने आगोश में,

चमकते सूरज की शुआओं* ने
तापा है तेरे - मेरे जिस्म को,

हंसी वादियों में
महकती 
सर्द हवाओं ने
सजाया है मौसम 
तेरे-मेरे लिए.......

किसी जर्रे में है धू
किसी में है छाया,

आज है यहीं पर
आसमां...
अपनी
जमीं का हमसाया |   

*शुआओं : किरणों

रविश 'रवि'
फरीदाबाद