सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Friday, August 30, 2013

आरक्षण विरोध


    शहर का रेलवे स्टेशन , बस स्टैण्ड , डाकघर, अन्य सरकारी दफ्तर ....सब धूं-धूं करके जल रहे थे , उनसे उठते धुएँ से आकाश अट चुका था , पुलिस बेकाबू भीड़ पर नियंत्रण पाने में निरर्थक सिद्ध हो चुकी थी , उग्र भीड़ नौकरियों में पारित एस.सी. , ओ बी. सी.के आरक्षण विरोध में नारे लगा रही थी । कितने ही शो रूम व दुकानें लूटी गयीं  । वह इन सब में बहुत बढ़ चढकर भाग ले रहा था। उसके हाथों में जूते व घड़ियाँ थीं  , सब उसे शाबाशी दे रहे थे। नारे लगाते- लगाते उस युवक ने मुझसे पूछा -'भाई साहब ! यह आरक्षण क्या चीज है ?'  
'आपको नहीं पता ?' मैंने पूछा । उसका जवाब था- 'नहीं ।'
 'फिर यह सब किस लिए कर रहे हो' ,पूछा,  तो उसने घड़ियाँ दिखाते हुए कहा- ' लूट के लिए…. ' !  सुनते ही शरीर गलने सा लगा , सोच ने धिक्कार कर कहा -तू लुटेरों के साथ है , यह लूटपाट चल रही है ,......आरक्षण विरोध नहीं...।।

 राकेश खत्री