सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Thursday, May 16, 2013

व्यंग्यः जीना है तो रिश्ते बना मेरे यार

   तिथि  तुम कब  जाओगे  के युग में  मेरे एक  50 की उम्र में ही सठियाए से लगने वाले प्राइवेट मित्र पिछले दिनों मुझे  रिश्ते-नातों का महत्व समझाने बैठ गए। उनको टालने की गरज़ से मैंने पत्नी के द्वारा लगातार ड्राइंग रूम के पर्दे की ओट से ऑंखें दिखाए जाने के बावजू़द उनके लिए दो बार चाय की मांग कर डाली। मेरी पत्नी मेरी इस निर्लज्जता और निडरता का जवाब अवश्य देती, परन्तु वह इतनी भी बेवकूफ नहीं कि किसी बाहरी व्यक्ति को अपनी असलियत की भनक यूं ही लग जाने दे। मेरी किस्मत भी इतनी भली थी कि मेरे वह मित्र प्याले में बची-खुची चाय को पारिवारिक चीटियों व मक्खियों द्वारा कई-कई बार चूस लिए जाने के बाद भी मेरे घर से हिलने को तैयार नहीं थे। वह तो बाद में पता चला कि उनकी पत्नी मायके गई हुई है वरना तो वह पहले कभी मुझसे मिलने भी आते थे तो खिड़की से झांक कर मिलने में ही परम संतोष का अनुभव कर लेते थे। मैं जब-तक दरवाज़ा खोलकर उन्हें अंदर आने का न्यौता देता, वह ‘अरे, लो... पत्नी का फोन आ गया है..’ कहकर फरार हो जाते।

खैर, यहाँ बात हो रही थी रिश्ते-नातों के महत्व की। मेरे मित्र ने उस दिन बताया कि लोग आजकल रिश्ते-नातों का महत्व भूलते जा रहे हैं।  जबकि बिना किसी से कोई रिश्ता गांठे आज आदमी चैन से मर भी नहीं सकता। अब मरने पर अर्थी को कंधा देने की जल्दी सबसे पहले नाते-रिश्तेदारों को ही तो होती है। इस अर्थी देने की बात पर मुझे वह पुराना दिन याद हो आया। उस दिन बारिश के मौसम में जब हम अपने पड़ोसी के दादा जी की अर्थी को लेकर शमशान घाट गए हुए थे तब वहाँ पास की लकड़ी की टाल पर पहले से ही कई लोग लाइन में लगे हुए थे। लकड़ी का दाम तो सबके लिए एक सा ही था परन्तु जान-पहचान के लोगों ने पहले से ही सभी सूखी लकड़ियॉं अपने-अपने लिए निकलवा रखी थीं। यहाँ इस अपने-अपने का मतलब स्वयं के लिए नहीं बल्कि अपने-अपने मृतकजनों के लिए ही समझा जाए।
हाँ तो बात जान-पहचान की थी। मेरे पड़ोसी ने लकड़ी वाले से लाड़ दिखाते हुए चाचा, ताऊ, दादा, भैया और न जाने कौन-कौन से अलंकरणों का सहारा लेकर उससे रिश्तेदारी गांठने की कोशिश की परन्तु रिश्ते कोई ऐसे ही थोड़े बन जाते हैं। अब यह कोई राजनीति तो है नहीं कि मौका मिलते ही किसी भी दल से अपना नाता गाँठने की मिन्नत करने लगो और दल वाला अपने फायदे के लिए आसानी से उसे स्वीकार भी कर ले।
वहाँ पहले से खड़े एक व्यक्ति ने बताया कि अब-तक वह अपने और अपने पड़ोसियों के दादा, दादी, चाचा-चाची आदि के नश्वर शरीरों को जलाने के लिए यहाँ से बीसियों बार लकड़ियाँ खरीद चुका है। इसी कारण लकड़ी वाले से अब उसका ऐसा रिश्ता बन गया है कि यदि वह बिना मरे ही अपने आपको जलाने के लिए भी उससे लकड़ियाँ मांगे तो वह बिना पैसा एडवांश में लिए उसके लिए लकड़ियों का ढेर लगा देगा। यही नहीं यदि वह तसल्ली से जलना चाहे तो लकड़ी वाला जून की तपती दोपहरी में भी उसके लिए कहीं न कहीं से गीली लकड़ियों का इंतज़ाम कर ही देगा। 
अब चूंकि मेरे मित्र महोदय का लकड़ी के उस टाल वाले से कोई रिश्ता-नाता नहीं था इसलिए उनके हाथों गीली लकड़ियाँ ही लगीं। उन गीली लकड़ियों के कारण उनके दादा जी के मिट्टी के शरीर को मिट्टी में मिलने में पूर दो दिन लग गए। इस बीच उनके नाते-रिश्तेदार भी इस चिंता में सूखते नज़र आए कि कहीं इस देरी का नाजायज़ फायदा उठाकर दादा जी पुनः जीवित न हो उठें। अब भला आज के ज़माने में एक ही आदमी की मौत पर बार-बार अपना गाँव, शहर छोड़कर भागे चले आना इतना आसान भी तो नहीं था, उन सबके लिए।
अचानक पड़ोसी के दादा जी की अर्थी से मेरा ध्यान हटा तो मैं यह देखकर घबरा गया कि मेरे मित्र महोदय आधे सोफे पर और आधे ज़मीन पर लटके हुए खर्राटे मारने में मशगूल थे।
उनकी इस अदा से मुझे पक्का समझ में आ गया था कि आज लोग रिश्ते-नातों से दूर क्यों होते चले जा रहे हैं। अभी मेरी समझ में कुछ और भी आता इसी बीच मित्र महोदय की नींद अचानक टूटी और वे फिर से रिश्ते-नातों की अहमियत की बांग देने बैठ गए।
उन्होंने मुझे समझाते हुए कहा,‘देखो, रिश्ते-नातों का यह मतलब नहीं कि अपने खून के रिश्तों से ही जीवन भर चिपके रहा जाए। खून के रिश्तों के स्थान पर मुंहबोले रिश्ते कहीं अधिक अहमियत रखते हैं और काम के भी होते हैं। उन्होंने कहा, यदि जीवन में सफल होना है और अपने हर काम को सुचारू रूप से चलाते रहना है तो पुलिस से दोस्ती गाँठो, नेता से रिश्ते बनाओ, मोहल्ले के गुंडे से नाता जोड़ो और ज़रूरत पड़े तो गधे को भी अपना बाप बना डालो। उन्होंने बतौर उदाहरण अपने एक सगे मित्र का किस्सा सुनाते हुए कहा कि वह अपने ऑफिस में नए बॉस की सख्ती से सदैव परेशान रहता था। जब कभी भी वह ऊर्जा की बचत के लिए अपने चैम्बर की बत्ती बुझा कर नींद में शापिंग मॉल की सैर कर रहा होता था, बॉस उसके टेबल पर कोई न कोई ज़रूरी फाइल पटक जाते थे। इस बारे में मोहल्ले की मानवाधिकारी चाची से ली गई सलाह पर जब उन्होंने काम करना शुरू किया तो मानों उनके दिन ही फिर गए। चाची के कहे अनुसार उन्होंने बॉस के परिवार को दो-चार बार घर में दावत पर बुलाया, उनके बच्चों ही नहीं निजी कुत्ते तक को नहलाया, धुलाया और पार्कों में टहलाया। यही नहीं अपनी पत्नी के जन्म दिन पर खरीदी गई महंगी साड़ी तक उसने बॉस की पत्नी को बिना उनका हैप्पी बर्थ डे आए भेंट कर दी। इन सबसे बॉस और उनके घर वालों से उनका ऐसा नाता जुड़ा कि देखने वाले दांतों तले अपनी अच्छी भली उंगलियाँ भी चबा बैठे। उन्होंने इस किस्से को आगे खींचते हुए बताया कि अब उनका दोस्त ऑफिस में ऊर्जा की बचत किए बगैर आसानी से घंटों चैन की नींद सो पाता है।
मित्र के धारावाहिक किस्सों में थोड़ा विराम आया तो मैं रिश्ते-नातों पर नए तरीके से चिंतन करने बैठ गया। निश्चय ही आज जीवन में वही व्यक्ति सफल है जो वक्त देखकर किसी न किसी से अपना रिश्ता गाँठ बैठा है। एक लेखक अच्छे से अच्छा लिखकर भी क्या करेगा यदि उसके संपादक से अच्छे रिश्ते नहीं होंगे। आगे बढ़ने के लिए आज कर्मचारी को अपने बॉस से, पार्टी कार्यकर्ता को नेता से, चुनाव लड़ने वाले प्रत्याशी को जनता से, अभिनेत्रियों को नग्नता से, विद्यार्थियों को अध्यापक से, डाक्टर को मरीज से, वाहन चालक को ट्रैफिक इंस्पेक्टर से, चोर-उचक्कों को थानेदार से और न जाने किसको-किसको किससे-किससे रिश्ता बनाए रखना पड़ता है। बेशक इन रिश्तों को बनाने के चक्कर में हमारे अपने माता-पिता, भाई-बहन, पति-पत्नी, चाचा-ताऊ आदि जैसे सभी रिश्ते पीछे छूटते चले जा रहे हों।  जिनके बिना कभी हमें इस संसार में अपना वजूद ही नहीं दिखाई पड़ता था।


रचनाकार: श्री किशोर श्रीवास्तव

नई दिल्ली 
चित्र गूगल बाबा से साभार