सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Wednesday, January 2, 2013

शोभना काव्य सृजन पुरस्कार प्रविष्टि संख्या - 16

विषय: नारी शोषण
मेरे पंख न छीनो तुमभरनी है उड़ाँ मुझको ।
मैं अंबर को छू लूँगीदीजे मौक़ा मुझको।
दुनिया में आने से पहलेमार दिया जाता;
बेटी को दिल से न यहाँ स्वीकार किया जाता,
औरत पर फ़रमान सुनाओगे अब तुम कितने?
बंद घरों में कब तक औरत ज़ुल्म सहे इतने?
जिस दुनिया में औरत को अबला न कोई समझे,
दुनियावालों ऐसा ही दो एक जहाँ मुझको।
शहरों में औरत की हालत चाहे सुधर गई,
गाँवों में उस पर तो हिंसा हद से गुज़र गई,
रोज़ नया फ़रमान मुझे क्यों सुना दिया जाता?
क्यों शिक्षा से  भी मुझको महरूम किया जाता?
लगता है मैं बंद कोठरी में पल-पल मरती,
मैं भी तो जीना चाहूँ दो धूप-हवा मुझको।
मेरी भी ख़्वाहिश है मैं भी तितली बन घूमूँ,
नील गगन में पुरवाई सी इठलाती झूमूँ,
फिर मर्यादा की बेड़ी मेरे पैरों में क्यों
बेटा है अपना तो फिरमैं ही ग़ैरों में क्यों?
जब धरती पर ही लाचारीदुख,अपमान मिले -
आज चाँद पर जाकर भी करना है क्या मुझको

 
       रचनाकार: श्री अंकित गुप्ता 'अंक '

मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश