सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Tuesday, October 2, 2012

फेसबुक मैत्री सम्मेलन रहा सफल

भरतपुर, राजस्थान: 29-30 सितम्बर,12 को हम साथ-साथ पत्रिका, नई दिल्ली व अपना घर, भरतपुर के सौजन्य से फेसबुक मैत्री सम्मेलन का अविस्मरणीय आयोजन राजस्थान के भरतपुर जिले में स्थित अपना घर संस्था के प्रांगण में हर्ष और उल्लास के वातावरण में किया गया.


 सम्मेलन के दौरान विभिन्न सत्रों में पहले दिन परिचय गोष्ठी,अपना घर में भर्ती किये गये मरीजों व बेसहारा लोगों से साक्षात्कार और मैत्री-भाईचारे के प्रचार-प्रसार में फेसबुक की उपयोगिता पर परिचर्चा तथा गीत-संगीत की चौपाल का आयोजन किया गया. 


अगले दिन श्री किशोर श्रीवास्तव कृत 'खरी-खरी' जन चेतना कार्टून पोस्टर प्रदर्शनी


और कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया. 


उपर्युक्त सभी कार्यक्रमों में दिल्ली,उ.प्र., हरियाणा, राजस्थान, म.प्र., झारखण्ड आदि प्रदेशों के अनेक साहित्यकार, संगीतकार व कवियों आदि ने हिस्सा लिया. 


सम्मेलन के दौरान श्रीमती सरस्वती सिंह स्मृति फेसबुक मैत्री-भाईचारा अवार्ड सहित विभिन्न प्रतिभागियों की सहभागिता प्रमाण पत्र वितरित किया गया.


इस दौरान सुषमा भंडारी जी के काव्य संग्रह 'अक्सर ऐसा भी' का विमोचन भी किया गया.


सम्मेलन के विभिन्न सत्रों में प्रख्यात कवि पं. सुरेश नीरव, प्रसिद्ध वक्ता व व्यंग्यकार श्री सुभाष चंदर, किशोर श्रीवास्तव, प्रख्यात साहित्यकारों सर्वश्री डॉ. ए. कीर्तिवर्धन, डॉ.रघुनाथ मिश्र, श्री ओम प्रकाश यती, डॉ.रेखा,व्यास, साज देहलवी, गाफिल स्वामी, अशोक खत्री, डॉ. भारद्वाज, श्रीमती माधुरी, डॉ.कृष्ण कान्त मधुर, डॉ.सुधाकर आशावादी सहित युवा साहित्यकार पूनम मटिया, संदीप सृजन, अतुल जैन सुराणा, अरविन्द पथिक, शशि श्रीवास्तव, यशवंत दीक्षित, एम.पी. विमल, सुषमा भंडारी. पूनम तुषामंड, ऋचा मिश्रा, संगीता शर्मा अधिकारी, मानव मेहता, अजय अज्ञात, हेमलता एवं श्री नरेश माटिया सहित अनेक युवा साहित्यकार, संपादक आदि न केवल उपस्थित रहे अपितु उन्होंने सैकड़ों श्रोताओं को अपनी कला का लोहा मानने पर मजबूर कर दिया.


अंत में सभी फेसबुकिये मित्र सिकरवार राजपूतों से हथिया कर बादशाह अकबर द्वारा सीकरी नगर को फतेहपुर सीकरी के रूप में परिवर्तित की गई नगरी घूमने चल पड़े.


घूमने फिरने के उपरांत इस यादगार सम्मेलन की मधुर यादें हृदय में संजोये अपने-अपने घरोंदे की ओर लौट चले. इस प्रकार फेसबुक मैत्री सम्मेलन का आँखों देखा हाल यहीं समाप्त होता है. 


किशोर श्रीवास्तव जी की ढोलक की थाप के साथ सादर ब्लॉगस्ते से रपटकार संगीता सिंह तोमर....