सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Wednesday, June 27, 2012

आओ एक गीत गा दें

चित्र गूगल बाबा से साभार 
नेह के दीपक बुझ रहे,

फिर से जला दें,

आओ एक गीत गा दें|
बढ़ रहा तम घनेरा,धूप में भी,


दीप बन जल उठें,तम मिटा दें,

आओ एक गीत गा दें|
दरकती दीवार विश्वास और प्रेम की अब,


स्नेह का थोडा मुलम्मा चढ़ा दें,

आओ एक गीत गा दें|
धर्म के नाम पर भी सियासत हो रही है,


आस्था का कोई दीप जला दें,
आओ एक गीत गा दें|
सम्बन्ध भी बनाने लगे,अर्थ की नीव पर,


अर्थ के भी अर्थ का भाव बता दें,
आओ एक गीत गा दें|
होने लगे जुदा माँ-बाप,पति-पत्नी सभी,


रिश्तों के संसार को समर्थ बना दें,
आओ एक गीत गा दें|
अब तो संस्कार सारे खोने लगे हैं "कीर्ति"


रामायण का सार सबको बता दें,
आओ एक गीत गा दें_

रचनाकार- डॉ. ए. कीर्तिवर्धन



दूरभाष- 08265821800