सादर ब्लॉगस्ते पर आपका स्वागत है।

सावधान! पुलिस मंच पर है

Sunday, June 24, 2012

स्वार्थी युग हो गया है


चित्र गूगल बाबा से सप्रेम प्राप्त 

स्वार्थी युग हो गया है
मर रही संवेदना 
अब हलाकू घूमते हैं 
मौत की टोली बना 

हर तरफ संत्रास का 
फैला हुआ है कोहरा 
फूल लगते कागजी सब 
सब्जियों पर रंग हरा 
सच अनावृत्त हो रहा है 
झूठ की गोली बना 

झुग्गियों में फैलती 
आँचल पसारे क्रंदना
मायावी दुनिया हुई 
सब लुप्त होती भावना 
सत्य भी मिलता बिचारा 
फूस की खोली बना 
   
अस्पतालों में चिकित्सक 
कर रहे व्यापार हैं
कैश-लेश की ओट में 
करते विविध व्यभिचार हैं
पीड़ितों से लूटते ये 
द्रव्य को झोली बना 

राजपथ अब हो गये हैं 
मौत की सूनी डगर 
जनपथों पर घूमती है 
काल की पैनी नज़र 
दौड़ चूहों की निकलती 
खून की होली मना ।


रचनाकार- डॉ. जय शंकर शुक्ला 


संपर्क- बैंक कालोनी, दिल्ली
दूरभाष- 09968235647